बिहार से एक शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। पहले 12 साल की लड़की से दबंगों ने गैंगरेप किया फिर साक्ष्य छुपाने के लिए उसकी हत्या कर दी गई। इसके बाद गैंगरेप करने वाले दबंगों ने थानेदार को सेट कर लिया और थानेदार ने बच्ची की लाश को जबरन जलवा दिया। और थानेदार ने कह दिया कि बच्ची की ठंड से मौत हो गई।

मामला पूर्वी चंपारण के कुंडवा चैनपुर का है जहां पर 12 साल की नेपाली बच्ची के साथ गैंगरेप किया गया। दबंगों का इतने से भी मन नहीं भरा तो उसकी हत्या कर दी।

दरअसल नेपाल का एक मजदूर पूर्वी चंपारण में कुंडवा चैनपुर में अपने परिवार के साथ रहकर काम करता था। वह मजदूर कुंडवा चैनपुर स्थित सियाराम शाह के मकान में भाड़े पर रहता था। वह बाजार में घूम-घूम कर चाय बेचने का काम और रात में चौकीदारी का काम करता था।

मामला 21 जनवरी उसका है जब उसकी बेटी घर में अकेली थी। इसी बीच इस विनय शाह, देवेंद्र कुमार साह, अवध किशोर शाह और दीपक कुमार साह ने मिलकर 12 साल की बच्ची से जबरन बलात्कार किया और उसके बाद फिर हत्या कर दी।

4 लोगों ने मिलकर 12 साल की नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म किया फिर पुलिस को सेट किया। कुंडवा चैनपुर थानेदार ने मामले को रफा-दफा करने की सुपारी ले ली। इसके बाद पीड़ित परिवार को धमकी देकर आनन-फानन में लाश जलवा दिया। थानेदार ने जबरन कागज पर लिखवा लिया कि ठंड से बच्चे की मौत हुई है।

बच्ची के परिजन नेपाल से आए और कहा कि बच्ची की रेप के बाद हत्या कर दी गई। इस बीच थानेदार और दबंगों के बीच बातचीत का ऑडियो वायरल हो गया, इसके बाद मामले का खुलासा हुआ। 3 फरवरी को इस मामले में केस दर्ज हुए ऑडियो सामने आने के बाद मोतिहारी एसपी ने कुंडवा चैनपुर थानेदार को निलंबित कर दिया है।