अमेरिकी कृषि विभाग के मुताबिक मिडल इनकम और गरीब देशों में 1.2 अरब लोगों को इस साल खाने के लाले पड़ सकते हैं। यह संख्या पिछले साल के मुकाबले एक तिहाई अधिक है। महामारी के कारण लोगों के आय के स्रोत खत्म हो गए हैं और वे भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं।

कोविड-19 महामारी (Covid-19 pandemic) ने पूरी दुनिया को बुरी तरह झकझोर कर रख दिया है और इसके कारण करोड़ों लोग भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं। अमेरिकी कृषि विभाग के मुताबिक मिडल इनकम और गरीब देशों में 1.2 अरब लोगों को इस साल खाने के लाले पड़ सकते हैं। यह संख्या पिछले साल के मुकाबले एक तिहाई अधिक है। महामारी के कारण लोगों के आय के स्रोत खत्म हो गए हैं और वे भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं।

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) ने हाल ही में कहा था कि 2020 में ग्लोबल फूड इनसिक्योरिटी 15 साल के चरम पर पहुंच गई थी। महामारी के कारण इनकम प्रभावित होने से दुनिया की 10 फीसदी आबादी हेल्दी डाइट से वंचित हो गई है। इस साल स्थिति के और बदतर होने की आशंका है। इसकी वजह यह है कि कमोडिटी के महंगे होने और सप्लाई चेन के बाधित होने से खाने पीने की चीजों की कीमत करीब एक दशक के उच्चतम स्तर पर है। यह उन गरीब देशों के लिए अच्छी खबर नहीं है जो खाने पीने की चीजों के आयात पर निर्भर हैं।

राजनीतिक अस्थिरता का खतरा
नेचर फूड जर्नल में इस महीने प्रकाशित एक स्टडी के मुताबिक एशिया और अफ्रीका के गरीब और मिडल इनकम देशों में भुखमरी बढ़ने से राजनीतिक अस्थिरता का भी खतरा है। अमेरिकी कृषि विभाग की एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका से मदद पाने वाले 76 देशों में 1.2 अरब लोगों को इस साल खाने के लाले पड़ सकते हैं। यह इन देशों की कुल आबादी का 31 फीसदी है। महामारी से पहले यह संख्या 76.1 करोड़ थी।

अमेरिकी कृषि विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक इस साल भुखमरी की कगार पर पहुंचने वाले अधिकांश लोग एशिया के हैं। खासकर बांग्लादेश, भारत, पाकिस्तान और इंडोनेशिया में ऐसे लोगों की संख्या काफी तेजी से बढ़ेगी जिनके पास खाने के लिए पर्याप्त नहीं होगा। यमन, जिम्बाब्वे और कांगो जैसे देशों में 80 फीसदी से अधिक आबादी के पास खाने के लिए पर्याप्त नहीं है।

भुखमरी की श्रेणी
रिपोर्ट के मुताबिक महामारी के कारण लोगों की आय बुरी तरह प्रभावित हुई है और उन्हें खाने के लाले पड़ गए हैं। इसमें क्लाइमेंट चेंज, सशस्त्र संघर्ष और राजनीतिक या आर्थिक अस्थिरता को शामिल नहीं किया गया है। अमेरिकी कृषि विभाग के मुताबिक अगर किसी को दिन में कम से कम 2,100 कैलोरी की डाइट नहीं मिलती है तो उसे भुखमरी की श्रेणी में रखा जाता है। एक्टिव और हेल्दी रहने के लिए दिन में कम से कम इतनी कैलोरी लेना जरूरी है।