नए संसद भवन के निर्माण के लिए आज शिलान्यास संपन्न हो गया. शिलान्यास कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भूमि पूजन किया.

इंडिया गेट के पास सेंट्रल विस्टा कार्यक्रम के तहत बन रहे नए भवन के इस कार्यक्रम में बस प्रतीकात्मक तौर पर शिलान्यास होगा लेकिन इसका निर्माण कार्य अभी नहीं शुरू हो सकता है क्योंकि इस संबंध में एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है.

संसद का यह नया भवन 20,000 करोड़ के सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का एक अहम हिस्सा है, जिसमें राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक फैले 13.4 किमी लंबे राजपथ पर पड़ने वाले सरकारी भवनों के पुनर्निमाण या फिर पुनर्उद्धार किया जाना है.

वही संसद का यह नया भवन में कुल लागत 971 करोड़ बताया जा रहा हैं. अब इसी देश भर में जनता सवाल उठा रही हैं की आखिर अर्थव्यवस्था की इतनी खराब हालत करके नई संसद भवन में पैसे खर्च करने की जरूरत क्या हैं?

ट्विटर यूजर अनुराधा पटेल ने ट्वीट करके निशाना साधा हैं. अनुराधा ने अपने ट्वीट में लिखा ” देश की अर्थव्यवस्था की बुनियाद जर्जर कर के, नई संसद की बुनियाद डाली गई है ”

गौरतलब हैं की आज़ादी के बाद पहली बार देश की जीडीपी जीरो से भी कम हो गया हैं और लगातार देश पर कर्ज भी बढ़ते जा रहा हैं