दरभंगा /बिहार
बिहार में दहेज अभिशाप बनकर रह गई है आए दिन कई जगहों से इस प्रकार की घटनाएं आती रहती है जहां दहेज के लिए लड़की पक्ष को प्रताड़ित किया जाता है, सरकार इसके लिए कई प्रकार की कानून तो बना रही है लेकिन कुछ असामाजिक तत्व इस प्रकार के कानून को ताक पर रखी हुई है , इस प्रकार की घटना आए दिन होती रहती है इसी क्रम में दरभंगा जिला के घनश्यामपुर थाना क्षेत्र के लगमा निवासी हरे कृष्ण ठाकुर की पुत्री तुलसी कुमारी का विवाह माहूआर निवासी पवन झा के पुत्र पंकज झा के साथ 2013 में संपन्न हुआ था समय उपरांत दहेज के लिए तुलसी कुमारी को उसके पति तथा उसके ससुर के द्वारा प्रताड़ित किया जाता था तथा बार-बार दहेज को लेकर काफी काहा सुनी होती थी, अंततः तुलसी अपने पिता को दहेज प्रथा की सारी घटनाओं की जानकारी दी इसके बाद तुलसी के पिता उसे अपने घर आज से 5 वर्ष पूर्व ले आए, 5 साल के बाद आज जब तुलसी की पिता घर पर मौजूद नहीं थे उस समय तुलसी के पति पंकज कुमार तथा ससुर पवन झा के द्वारा उसके घर पर पहुंचकर तुलसी को जबरन ले जाने की जिद करने लगे तो उस के द्वारा इंकार करने पर पिता-पुत्र समेत 5 लोगों ने तुलसी पर तेजधार हथियार से हमला करने की कोशिश की तुलसी की आवाज सुनकर आसपास के लोग दौड़कर आने लगे तब तक पिता-पुत्र समेत पांच लोग वहां से गायब हो चुके थे घटना के बाद तुलसी कुमारी के पिता हरे कृष्ण ठाकुर ने घनश्यामपुर थाना में अपनी पुत्री के दहेज प्रथा एवं घटनाओं को लेकर प्राथमिक दर्ज कराई तथा न्याय की गुहार लगाई घनश्यामपुर थाना उक्त मामले की कार्रवाई में जुट चुकी है । पुत्र सहित पांच अन्य लोग फरार हो चुके हैं।