दरअसल बिहार विधानसभा चुनाव का आज अमित शाह ने बिगुल फंक दिया हैं. भले ही हर रोज कोरोना से सैकड़ों लोग मर रहे हो. भले बिहार सरकार कहती हो की मजदूरों को वापस लाने के लिए हमारे पास पैसे नहीं हैं.

इसके बाबजूद भी आज बीजेपी बिहार में चुनाव प्रचार की शुरुआत कर दी हैं अमित शाह डिजिटल रैली के माध्यम से चुनावी अभियान का आगाज किया बीजेपी ने देश में पहली बार आयोजित हो रही इस डिजिटल रैली को वास्तविक लुक देने के लिए पूरी तरह से कमर कस ली है और कोशिश ये है कि बूथ लेवल से लेकर राज्य लेवल तक के नेता को इससे जोड़ा जा सके.

वही बताया जा रहा है की इस रैली के लिए BJP ने बिहार के 72 हजार बूथों पर 72 हजार एलईडी स्क्रीन लगाये हैं. इन एलईडी स्क्रीन पर वे लोग केंद्रीय गृह मंत्री को सुनेंगे जिनके पास स्मार्ट फोन नहीं है.

वही तेजस्वी यादव का दावा हैं की एक 10 x 12 led स्क्रीन का किराया ओसतन 20,000 रूपये होगा यानि 72000 X 20000 यानि सीधा सीधा खर्च 144 करोड़ रूपये है। इसमें अगर ट्रांस्पोर्टेशन जोड़ दिया जाए तो यह और भी ज्यादा होगा।

अब इसी पर कांग्रेस प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने बीजेपी पर तंज कैसा हैं और देश वासियों को आगाह करते हुए कहा की अब जनता खुद अपना ख्याल रखे सरकार चुनाव में व्य्स्त हो गयी हैं.

कांग्रेस नेता ने ट्वीट करते हुए लिखा ” कोरोना महामारी से और बिगड़ती अर्थव्यव्स्था से जनता स्वयं लड़े, भाजपा और पूरी भाजपा_सरकार बिहार में चुनाव लड़ने में व्यस्त है बिहार जनसंवाद भाजपा जन संवाद रैली”