कोरोना वायरस के कारण दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं पर चोट लगी है, लेकिन इसका सबसे अधिक असर भारत पर हुआ है. बीते दिन आए GDP के आंकड़ों के अनुसार, विकास दर -23.9 फीसदी तक पहुंच गई है. मंगलवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस मसले पर मोदी सरकार को घेरा. राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा कि GDP -23.9, देश की अर्थव्यवस्था की बर्बादी नोटबंदी से शुरू हुई थी. तब से सरकार ने एक के बाद एक गलत नीतियों की लाइन लगा दी. आपको बता दें कि इससे पहले भी राहुल गांधी ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि नोटबंदी, गलत GST और गलत लॉकडाउन ने अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया. साथ ही राहुल ने कहा कि मैंने काफी वक्त पहले जो चेतावनी दी थी, उसे सरकार ने नजरअंदाज किया.

प्रियंका गांधी ने देश की गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर पीएम पर जमकर निशाना साधा है। साथ ही कोरोना संकट के दौर में जारी पैकेज की तुलना हाथी के दांत से की है। उन्होंने कहा है कि BJP की सरकार ने अर्थव्यवस्था को डुबा दिया। कांग्रेस महासचिव ने ट्वीट कर लिखा “आज से 6 महीने पहले राहुल गांधी जी ने आर्थिक सुनामी आने की बात बोली थी। कोरोना संकट के दौरान हाथी के दांत दिखाने जैसा एक पैकेज घोषित हुआ। लेकिन आज हालत देखिए। जीडीपी @ -23.9% जीडीपी। भाजपा सरकार ने अर्थव्यवस्था को डुबा दिया”

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने भी ट्वीट कर सरकार पर तंज कहा और गिरती जीडीपी की क्रॉनोलॉजी समझाई. जयराम रमेश ने लिखा कि नोटबंदी और जीएसटी ने ग्रोथ को मार दिया. जबकि टैक्स कट करके आम आदमी की बजाए कॉर्पोरेट को मदद की गई और बिना किसी प्लानिंग के साथ लॉकडाउन कर दिया गया. सोमवार को आए GDP के आंकड़ों के बाद से ही मोदी सरकार निशाने पर है.

गौरतलब है कि राहुल गांधी ने बीते दिनों ही एक नई वीडियो सीरीज की शुरुआत की है. जिसमें राहुल मोदी सरकार द्वारा अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर लिए गए गलत फैसलों को लेकर चर्चा कर रहे हैं. इससे पहले भी कांग्रेस नेता कई एक्सपर्ट से चर्चा करते हुए नजर आए हैं, जहां मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों और लॉकडाउन लागू करने की निंदा की है.

आपको बता दें, कोविड-19 संकट के बीच देश की अर्थव्यवस्था में चालू वित्त वर्ष 2020-21 की अप्रैल-जून तिमाही में 23.9 प्रतिशत की भारी गिरावट आयी है। भारतीय अर्थव्यवस्था में बीते 40 साल में पहली बार इतनी बड़ी गिरावट आई है। राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 5.2 फीसदी रही थी। अधिकांश रेटिंग एजेंसियों ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही की जीडीपी में गिरावट का अनुमान जताया था। वहीं वित्त वर्ष 2018-19 में भारतीय अर्थव्यवस्था 6.1 फीसदी की दर से बढ़ी थी। जबकि 2019-20 में अर्थव्यवस्था की विकास दर 4.2 फीसदी रही थी।