narendra modi & Nitish kumar

कल पीएम मोदी देश को सम्बोधन को करते हुए लॉक डाउन को बढ़ाने का फैसला किया. लेकिन उन्होंने ये नहीं बताया की ये कब तक रहेगा. पीएम मोदी ने अपने सम्वोधन में आत्म निर्भर भारत बनाने का सकंल्प लिया.

वही लॉक डाउन से बिगड़ी अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए उन्होंने 20 लाख करोड़ का विशेष पैकेज का एलान किया. कोरोना महामारी फैलने के बाद से पांचवी बार देश की जनता को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने देश को आत्‍मनिर्भर बनाने के साथ साथ कोरोना संकट से भी निपटने की राह दिखाई।

पीएम मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की है साथ ही भावी कदमों का संकेत दिया जो आने वाले वर्षों में ना केवल देश के आर्थिक ढांचे को बदलने वाला होगा बल्कि इसका व्यापक कूटनीतिक असर भी देखने को मिलेगा।

आत्म निर्भर भारत बनाने का मतलब क्या, मेक इन इंडिया भी तो आत्म निर्भर के लिए ही बनाया था, वो फेल हो गया क्या?

पीएम मोदी ने कहा, ये संकट इतना बड़ा है, कि बड़ी से बड़ी व्यवस्थाएं हिल गई हैं। लेकिन इन्हीं परिस्थितियों में हमने, देश ने हमारे गरीब भाई-बहनों की संघर्ष-शक्ति, उनकी संयम-शक्ति का भी दर्शन किया है। आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए ‘वोकल’ बनना है, न सिर्फ लोकल प्रोडक्‍ट खरीदने हैं, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है। मुझे पूरा विश्वास है कि हमारा देश ऐसा कर सकता है।

वही पीएम ने कहा 20 लाख करोड़ रुपए की आर्थिक पैकेज का एलान करते हुए कहा की इससे हमारे कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, हमारे लघु-मंझोले उद्योग, हमारे MSME के लिए है, जो करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है, जो आत्मनिर्भर भारत के हमारे संकल्प का मजबूत आधार है।

मोदी सरकार को एक और बड़ा झटका, मूडीज ने कहा- 2020-21 में भारत की आर्थिक वृद्धि 0% रहेगी

अब पीएम मोदी के इस एलान के बाद देश में सवाल उठना शुरू हो गया. सबसे अधिक सवाल बिहार के लोगों ने उठाया. बिहार की राजनीती में मुख्य विपक्षी दल RJD ने सवाल उठाते हुए कहा ” मोदी जी, बिहारी पैकेज के महत्व को जानते है। अब कोई यक़ीन नहीं करता, यहाँ तक की, आपके सहयोगी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी।”

वही तेजस्वी यादव ने कहा ” 2015 में नाटकीय ढंग से बिहार के विकास के लिए ₹ 1 लाख 65 हजार करोड़ का एक भारी भरकम पैकेज घोषित किया गया था।

5 साल बाद हम श्री नीतीश कुमार जी से आग्रह करते है कि उस बहुप्रतीक्षित पैकेज की केंद्र से प्राप्त और खर्च धनराशि पर स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करे या उस पर एक बयान जारी करें।

वही बैंडिट क्वीन के नाम से ट्विटर हैंडल ने लिखा ” ये विशेष पैकेज कहीं बिहार को मिले 1.25 लाख करोड़ के पैकेज के तरह तो नहीं है?